2025 तक भारत की सभी गाड़ियाँ हो सकती है इलेक्ट्रिक.

2025 तक भारत की सभी गाड़ियाँ  हो सकती है इलेक्ट्रिक.

2025 तक भारत कि सभी गाड़िया हो सकती है इलेक्ट्रिक.

क्या है Electric vehicle ?और क्यों पुरे देश में Electric Vehicle चलाने पर जोर क्यों दिया जा रहा है. ? कई और तरह के सवाल होंगे जो आप लोगों को अक्सर परेशान करते हैं |
इलेक्ट्रिकल व्हीकल मतलब वो गाड़िया जो इलेक्ट्रिसिटी कि चार्जिंग से चलती हो.
जैसा कि हम लोग news चैनल या अखबारों मै पढ़ते हैं कि आने वाले कुछ सालो मै भारत कि सभी गाड़िया हो जायगी इलेक्ट्रिक.क्या ऐसा सच मै होने वाला है.

भारत में आज भी कई राज्यों मै कमजोर इन्फ्रास्ट्रक्चर मौजूद है आज भी हम लोग electric vehicle की जगह पेट्रोल और डीजल वाली वाहनों का उपयोग कर रहे है |जो कि वायु प्रदूषण को बढ़ावा देता है.इसी वजह  देश में आने वाले समय में electric vehicle चलाने की बात की जा रही हैं |

No.1 इतनी चर्चा मै क्यों है? इलेक्ट्रिक व्हीकल


भारत में कारों की संख्या मनुष्य कि संख्या जैसे ही बढ़ती  जा  रही है।  शहरों हो या कोई पिछड़ा हुए गावों  तक कारों का विस्तार होता जा रहा है.  जिस के कारण  देश का वायु प्रदूषण
  हद से ज्यादा बढ़ गया है ओर आगे बढ़ता ही जा रहा है।  हमारी पृथ्वी की वायु ओर जल ख़राब होते जा रहे है। कई देश इसके सुधार के लिए आगे आए हैं ताकि प्रदूषण रोका जा सके.।

भारत मे भी  इलेक्ट्रिकल वाहनों को काफ़ी अच्छी प्राथमिकता दी जा रही है। अपने देश कि कार कंपनी टाटा मोटर्स अपने इलेक्ट्रिकल वाहनों द्वारा काफी धूम मचा रही है। क्योंकि पेट्रोल और डीजल की कीमतों मे लगातार काफ़ी बढ़ोतरी के कारण लोगो का भरोसा इलेट्रिकल वाहनों की तरफ बढ़ रहा है । शायद इसी कारण से पेट्रोल ओर डीज़ल के दाम मै बढ़ोतरी आ रही है. इलेक्ट्रॉनिक कारो के कारण न तो कोई ध्वनि प्रदूषण होता है और न ही वायु प्रदूषण।

No. 2 सरकार इलेक्ट्रिक व्हीकल का समर्थन क्यों कर रही हर ?

पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों के कारण ही अब केंद्र सरकार भारत देश मै इलेक्ट्रिक व्हीकल्स पर जोर दे रही है। यही वजह है हमारे देश कि कई कार मेकर कंपनियां भी नए-नए इलेक्ट्रिक व्हीकल्स लॉन्च करती जा रही हैं।

इसी के तहत मशहूर कार कंपनी महिंद्रा अपनी पहली लॉन्ग रेंज इलेक्ट्रिक कार एसयूवी 300 को भारत मै लॉन्च करने कि तैयारी कर रही है। इस  तो इसमें पहले वाली पेट्रोल ओर डीजल पर चलने वाली कार से काफ़ी अलग और बहतर बनाया गया है.

No. 3 क्यों किया गया है इलेक्ट्रिक व्हीकल मै 3000 करोड़ का निवेश


ऑटोमेटिव वर्ल्ड में, EVs (इलेक्ट्रिक व्हीकल) को लेकर हर रोज हर समय सबसे अधिक बहस, ओर चर्चा हो रही है.
टाटा ओर महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड आने वाले अगले तीन सालो में अपने इलेक्ट्रिक वाहनों के कारोबार पर 3,000 करोड़ रुपये का निवेश करने की योजना बना रहे है, निवेश कि इतनी बड़ी रकम कुछ बड़ा करने के लिए ही लगाई जाती है.

टाटा ओर महिंद्रा एंड महिंद्रा दुनिया भर में अपने कार संचालन की क्षमताओं को मिलाकर एक मजबूत ईवी प्लेटफॉर्म विकसित करने पर काम कर रही है,

महिंद्रा ने तो पहले से ही 2025 तक 5 लाख इलेक्ट्रिक वाहनों को भारत कि सड़कों पर उतरने का लक्ष्य रखा है। कंपनी ने पहले से ही भारत में ईवी व्यवसाय में 1,700 करोड़ रुपये  निवेश किए हुए है

No. 4 इलेक्ट्रिक व्हीकल मै चीन ही क्यों है दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक

दुनियाभर में चीन सबसे ज्यादा इलेक्ट्रिक वाहनों का उत्पादक और निर्यातक कर रहा है। चीन में पिछले कुछ सालों में इलेक्ट्रिक कारों की बिक्री लगातार काफी बढ़ी है।

एक तजा हालही मै आई रिपोर्ट में सामने आया है कि 2021 के पहले ही चार महीनों में चीन में इलेक्ट्रिक और हाइब्रिड कारों की बिक्री में 279.6% कि बढ़ोतरी हुई है। चीन की इलेक्ट्रिक कारों की बिक्री के लिए दुनिया का सबसे बड़ा बाजार है।

कुछ मशहूर चीनी कार कंपनियां अपने ज्यातर वाहनों को चीन में ही बेच रही हैं।

इसी आंकड़े के कारण चीन का इलेक्ट्रिक कारो का बाजार दुनिया का सबसे बड़ा कार बाजार बन गया है।

चीन की लोकल ओर मशहूर इलेक्ट्रिक कार कंपनियां जैसे बीवाईडी, नियो और एक्सपेंग ने इस साल तीन महीनों में 97% की दर से कारोबार में वृद्धि की है।

आप सभी देश वासियो को बता दें कि इलेक्ट्रिक कारों की बिक्री को बढ़ाने के लिए सरकार ग्राहकों को कई तरह की सब्सिडी और डिस्काउंट प्रदान करने वाली है इसलिए अपनी मन पसंद इलेक्ट्रिकल कार अभी से चुन ले.

Spread the love ❤

2 thoughts on “2025 तक भारत की सभी गाड़ियाँ हो सकती है इलेक्ट्रिक.”

Leave a Comment

Garima Chaurasia hot sexy viral photos & unknown facts ( Gima Ashi ) – Gautam Gambhir biography, Age, Height, Biography 2022 Wiki, Net Worth What Impact Does Sitting Have On Kidney Health? F1 Belgian Grand Prix 2022 result, highlights and analysis Artificial Intelligence Model Can Detect Parkinson’s From Breathing Patterns